किसानों को एक लाख तक के फसली ऋण 2 प्रतिशत ब्याज पर

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मना रही है आगामी 25 सितंबर को लघु सीमांत तथा बीपीएल किसानों को एक लाख तक के फसली ऋण 2 प्रतिशत ब्याज पर प्रदान करने की योजना आरंभ की जाएगी तथा राज्य में सहकारिता सहभागिता तथा सहकारी बैंकों को मजबूत करने हेतु राज्य सहकारी बैंकों को विभागों द्वारा 1000 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।

सहकारी बैंकों द्वारा 114 माइक्रो एटीएम का संचालन आरंभ किया जाएगा। सहकारिता सहभागिता योजनान्तर्गत वितरित ऋणों के ब्याज पर रू0 8973$87 लाख के प्रतिपूर्ति का 50 प्रतिशत लाभ में चल रहे सहकारी बैंको के लाभ से तथा 50 प्रतिशत धनराशि राज्य सरकार द्वारा प्रतिपूर्ति की जाएगी। सहकारी बैकों के एनपीए का समाधान शीघ््रा किया जाएगा।

बुधवार को सचिवालय में आयोजित सहकारिता सहभागिता की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने निर्देश दिए की सहकारी बैंकों के सभी खाते एक महीने का विशेष अभियान चलाकर अनलाइन किए जाएं तथा बैंकों को अपने बोर्ड अफ गवर्नेंस तथा कार्यकारी तंत्र में प्रोफेशनलिज्म तथा पारदर्शिता अपनानी होगी। उन्होंने स्पष्ट किया कि आवश्यकता पडऩे पर थर्ड पार्टी ऑडिट करवाया जाय।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने पदाधिकारियों से उपस्थित सहकारी बैंको के पदाध्किारियों से बैंको की वितीय स्थिती की अद्यतन जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने बैंक पदाधिकारियों को स्पष्ट किया कि सहकारी बैंको को बैंकिंग में प्रोफेशनिल्जम लाना होगा। राज्य में सहाकारिता मजबूत है। सहकारी बैंको को इस बात का विशेष ध्यान देना है कि बैंक लघु किसानो, छोटे उद्यमियों आदि बीच अपना धन लगाये।

हमें अपने उत्पादों की ब्राण्डिग को मजबूत करना होगा। सहकारिता के माध्यम से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुधारना होगा। मास्टर प्लान के अन्तर्गत कृकृषि गतिविधियों को प्रोत्साहित करने वाले सभी संस्थाओं, सरकारी तथा गैर सरकारी संगठनों तथा विभागों के प्रयासों व योजनाओं को इन्टिग्रेटेड किया जाएगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि कृकृषि आधारित किसी भी गतिविधि, औषधीय व सुगन्धित पौधो की खेती, पशुपालन, मत्सय पालन, कृकृषि उत्पादों के उत्पादन, प्रसस्ंकरण, मार्केटिंग आदि को प्रोत्साहन देने में सहकारिता सहभागिता की महत्वपूर्ण भूमिका है। बैठक में सहकारिता मंत्री डा0 धन सिंह रावत ने बताया कि सहकारिता मंत्री सहित सहकारिता विभाग, समिति व संगठनों के सभी अधिकारियों, कार्मिको तथा सदस्यो ंके खाते सहकारिता बैंको में खोले जायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *