ग्रामीणों को जान खतरे में डालकर करना पड़ रहा सफर

रुद्रप्रयाग क्षेत्र में हो रही मूसलाधार बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। आपदा से क्षतिग्रस्त रुद्रप्रयाग-गौरीकुण्ड हाईवे कई स्थानों पर कीचड़ में तब्दील होने से राहगीरों को जान-जोखिम में डालकर आवाजाही करनी पड़ रही है। मन्दाकिनी सहित अन्य सहायक नदियों का जलस्तर उफान पर होने के कारण आपदा पीडि़तों की मुश्किलें बढ़ती जा रही है।

केदारघाटी के अधिकाश हिस्सें में विगत कई दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश से पीएमजीएसवाई के उनियाणा-रासी मोटर मार्ग पर कई स्थानों पर मलवा आने व रासी गांव के नीचले हिस्सें में लगभग 10 से 12 मीटर मोटर मार्ग का नामोनिशान मिटने से दो बसे मद्महेश्वर धाम गये तीर्थ यात्रियों सहित रासी गावं के ग्रामीणों के अपने निजी वाहन रासी गांव में फस गये है।
तहसील प्रशासन ने मूसलाधार बारिश से क्षत्रिग्रस्त उनियाण-रासी मोटर मार्ग का स्थलीय निरीक्षण कर विभाग को शीघ्र मोटर मार्ग यातायात लायक बनाने के निर्देश दे दिये है। पीएमजीएसवाई ने बारिश से क्षतिग्रस्त मोटर मार्ग को खोलने की कवायत शुरु तो कर दी है, मगर विगत कई दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश मोटर मार्ग को यातायात लायक बनाने में बाधा पहुँचा रही हैै।

केदारघाटी के अधिकाश हिस्सों में विगत कई दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश से मन्दाकिनी नदी सहित अन्य नदियों का जलस्तर उफान पर होने से आपदा पीडि़तों की रातों की नींद हाराम हो गयी है।

जानकारी देते हुये पूर्व ममद0 अध्यक्ष रासी कुन्ती देवी ने बताया कि मद्महेश्वर घाटी में मूसलाधार बारिश होने से पीएसजीएसवाई के उनियाण-रासी मोटर मार्ग पर कई स्थानों पर मलवा आने तथा रासी गांव के नीचले हिस्सें में लगभग 10 से 12 मीटर मोटर मार्ग का नामोनिशन मिट गया है तथा गांव के निचले हिस्सें में भूधसाव होने से गांव के 85 परिवार खतरे की जद में आ गये है।

उन्होने बताया कि मोटर मार्ग के क्षतिग्रस्त होने से जीएमओयू लि0 की दो बसों सहित मद्महेश्वर धाम तीर्थ यात्रा पर गये तीर्थ यात्रियों तथा रांसी गांव के ग्रामीणों के निजी वाहन रांसी गांव में फस गये है। तहसीलदार अबरार अहमद ने रांसी गांव पहुँचकर मूसलाधार बारिश से क्षतिग्रस्त मोटर मार्ग का स्थलीय निरीक्षण कर पीएमजीएसवाई को शीघ्र मोटर मार्ग खोलने के निर्देश दे दिये है।

पीएमजीएसवाई के अधिशासी अभियन्ता आर0सी उनियाल ने मूसलाधार बारिश से क्षतिग्रस्त मोटर मार्ग को खोलने की कवायद तो शुरु कर दी गयी है, मगर बार-बार बारिश के आने से मोटर मार्ग खोलने में बाधा पहुँच रही है। उन्होने बताया कि यदि प्रकृति ने साथ दिया तो कम-से-कम 4 दिनों में मोटर मार्ग पर यातायात बहाल कर दिया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *