अयोध्या में श्रीराम की जन्मभूमि : यहां आप आना चाहेंगे बार-बार, बारंबार!

आध्यात्म, अनेकता में एकता का प्रतीक अयोध्या की आज हम आपको यात्रा करवा रहे हैं। इस स्थल के बारे में आप सभी जानते हैं। क्योंकि यह स्थान लंबे समय से चर्चाओं में है और हिंदूओं की आस्था का सबसे बडा केंद्र माना जाता है। आइए जानते है यहां के बारे में-

अयोध्या भारत के तीर्थ स्थानों में अपना बेहद अहम स्थान रखता है। मान्यता के अनुसार अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है। यह नगर बहुत ही प्राचीन है और सरयू नदी के तट पर बसा है। यह यूपी के फैजाबाद जिले में हैण् वैसे तो अयोध्या में दर्शनीय स्थानों की भरमार हैं, पर यहां कुछ स्थानों को दिखाया गया है।

हनुमानगढ़ी अयोध्या के बीचोंबीच हनुमानगढ़ी में रामभक्त हनुमानजी का विशाल मंदिर है। ऐसी मान्यता है कि अयोध्या में सबसे पहले हनुमानगढ़ी मंदिर में बजरंगबली के दर्शन करके उनका आशीर्वाद लेना चाहिए, फिर अन्य मंदिर जान चाहिए। इसके पीछे श्राम दुआरे तुम रखवारे, होत न आज्ञा बिनु पैसारे वाली मान्यता दिखती हैण् यानी हनुमानजी की कृपा के बिना किसी को रामजी का आशीर्वाद नहीं मिलता है।

अयोध्या का कनक भवन बेहद विशाल व भव्य मंदिर है। राम.जानकी की मूर्ति भी श्रद्धालुओं को मोहित कर देती है। श्रीराम.जानकी की प्रतिमा हर किसी का संताप हर लेती है। राजा दशरथजी का महलराजा दशरथ का महल भी बहुत प्राचीन और भव्य है। इसके परिसर में काफी संख्या में जमा होकर श्रद्धालु भजन.कीर्तन करते रहते हैं।श्रीराम के जन्मस्थान पर अभी रामलला की मूर्ति विराजमान है। भक्तगण लंबी.लंबी कतारों में कड़ी सुरक्षा.व्यवस्था से गुजरकर रामलला के दर्शन करते हैं।

अयोध्या नगरी के बीचोंबीच हनुमानगढ़ी इलाके में ही एक बड़ा.सा कुंड है, जो दन्तधावन कुंड नाम से जाना जाता है। इसे ही राम दतौन भी कहते हैं। कहा जाता है कि श्रीराम इसी कुंड के जल से सुबह अपने दांतों की सफाई करते थे।अयोध्या में प्रस्तावित श्रीराम मंदिर के निर्माण के लिए एक कार्यशाला बनाई गई है। यहां विशाल पत्थरों के स्तंभों को बेहद खूबसूरती के साथ तराशा गया है, जिस पर सुंदर नक्काशी की गई है। लोग इस स्थान को भी देखने आते हैं।

सरयू नदीसरयू नदी का जल एकदम साफ दिखाई पड़ता है। नदी में स्नान कर रहा कोई व्यक्ति इसकी तलहटी को एकदम साफ निहार सकता है। पर्यटक इस नदी को नौका से पार भी करते हैं। मान्यता के अनुसार, सरयू नदी को पार करके ही श्रीराम जंगल गए थे। नदी के तट पर केवट प्रसंग का स्मरण हो आना अत्यंत स्वाभाविक है।अयोध्या जैन मतावलंबियों के लिए भी पवित्र तीर्थ हैण् मान्यता है कि जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव आदिनाथ का जन्म यहीं हुआ था।

ऋषभदेव की भव्य प्रतिमादिगंबर जैन मंदिर में स्वामी ऋषभदेव की भव्य प्रतिमा विराजमान है। आसपास का वातावरण बेहद शांतिमय है, जो हर किसी को सुकून देता है।ऐसा था ऐतिहासिक बाबरी ढांचा-इस ऐतिहासिक इमारत की जगह अब विशाल टीले नजर आते हैं। भारत के प्रथम मुगल बादशाह बाबर के आदेश पर 1527 में इसका निर्माण किया गया था।् मीर बाकी ने इसका नाम बाबरी मस्जिद रखा। इसके साथ ही यहां कई ओर स्थल हैं जिन्हें आप देख सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *