आप में घमासान: टूट के कगार पर पहुंची आम आदमी पार्टी

एमसीडी चुनाव में मिली करारी हार के बाद आम आदमी पार्टी के टूटने को लेकर कयास तेज हो गए हैं। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि अगले छह माह के अंदर आप कई गुटों में टूट जाएगी। आप में मचे घमासान का आलम यह है कि दिल्ली के मुख्य मंत्री के नजदीकी रह चुके मयंक गांधी ने केजरीवाल को खत लिखकर उनको तानाशाह तक कहा है।
आंकड़ों के मुताबिक, भाजपा को 39.3, आप को 25.8 और कांग्रेस को 21.2 फीसद वोट मिले हैं। रुझानों के मुताबिक, तीनों नगर निगमों की मतगणना में 186 सीटों पर भाजपा, 36 पर आम आदमी पार्टी, 42 पर कांग्रेस और 6 पर अन्य आगे है। वहीं, ऐसे में दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी के मुखिया व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का तगड़ा झटका लगता दिखाई दे रहा है। पहली बार दिल्ली एमसीडी चुनाव लडऩे वाली ‘आप’ दूसरे स्थान पर आ गई है, जबकि कांग्रेस तीसरे स्थान पर खिसक गई है।

वहीं, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने आलाकमान के समक्ष इस्तीफा भेज दिया है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम में भाजपा ने 66 सीट पर जीत हासिल की है। वहीं आम आदमी पार्टी को 21 और कांग्रेस को 14 सीट मिली हैं, जबकि तीन अन्य के खाते में गई हैं। ईवीएम पर सवाल उठाया आप नेएमसीडी में हार को लेकर आम आदमी पार्टी ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं लेकिन भगवंत मान ने इसे लेकर भी पार्टी को हिदायत दी है। भगवंत मान ने कहा- ईवीएम में गड़बड़ी खोजने से कोई फायदा नहीं है।

पार्टी के नेतृ्तव ने ऐतिहासिक भूल की है. हमको सबसे पहले अपने अंदर झांकना चाहिए। एमसीडी चुनाव परिणामों के बीच पंजाब में आम आदमी पार्टी नेता भगवंत मान ने केजरीवाल के नेतृत्व पर सवाल उठाया है। ट्रिब्यून अखबार को दिए इंटरव्यू में भगवंत मान ने कहा- पंजाब में बिना अपना कप्तान चुने हमने चुनाव लड़ा। हमारी टीम मोहल्ला क्रिकेट की टीम की तरह थी। हमने सीएम का उम्मीदवार घोषित नहीं किया, लोग इससे कंफ्यूजन में थे। पंजाब में जरनैल सिंह को उतारना बड़ा गलती थी।सीएम के चेहरे को लेकर लोगों में कंफ्यूजन पैदा हो गया। गौरतलब है कि एमसीडी चुनाव में मिली हार का ठीकरा आम आदमी पार्टी ने ईवीएम पर फोड़ा है।

आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने केजरीवाल के घर बैठक के बाद कहा कि दिल्ली में जो परिणाम आए उसमें बीजेपी को जो जीत मिली है वो ‘म्टड लहर’ से ही संभव है। ईवीएम के माध्यम से बीजेपी देश में तानाशाही लाना चाहती है। यूपी और उत्तराखंड की ईवीएम लहर को दिल्ली में बीजेपी ने रिपीट किया है। आम आदमी पार्टी परिणाम की समीक्षा करेगी लेकिन देश को कैसे बचाया जाए इस पर विचार करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *